दोसतो नागपंचमी श्रावण के महीने में शुक्ल पंचमी को मनाया जाता है और इस साल अगस्त के महीने में २ तरीको मनाया जायेगा। जानते इस दिन हमे किन चीजों ध्यान दे और क्या हमे करना चाहिए।

T1

इस दिन नागो की पूजा बहोत ही ध्यान पूर्वक किया और मनाया जाता है और इस पूजा में बहोत चीजों का ध्यान रखा जाता है इस पूजा में दूध से उनका अभिषेक किया जाता।

T1

इस दिन शिव के भक्त नागो की पूजा करते समय नागो को दूध पिलाते है और उनके सामने अपना सर झुककर उनसे आशीवाद लेते हुए उनकी पूजा करते है।

T1

भगवान शिव शकर जीने नाग को अपने गले धारण किया था इसलिए इस नाग पंचमी के दिन नागो के साथ साथ भगवान शिवे जी की भी पूजा अर्चना की जाती है और आरती भी करते है।

T1

पौराणिक समय से ही नागो को देवता की तरसे ही पूजा जाता है। और यह भी मन जाता है की यदि इस दिन यदि नागो की पूजा तन मन धन से करे तो उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

T1

नाग पंचमी के दिन नाग की पूजा करने से जो भी राहु-केतु का बुरा प्रभाव और कालसर्प दोष होता है उससे पूरी तरहसे मुक्ति मिलजाती है इसी कारन पूजा ध्यान पूर्वक से मनाई जाती है।

T1

और यह भी माना जाता है की जो व्यक्ति इस दिन शिव पूजा और नाग देवता की पूजा के साथ साथ रुद्राभिषेक भी करता है उश्के जीवन में जो भी सारा कष्ट है उससे पूरी मुक्ति मिलजाती है।

T1

दोस्तों हिन्दू धर्म में नाग देवता की पूजा का एक अलग ही महत्व माना जाता है। इस दिन हम सुख-समृद्धि और खेतों में फसले सुरक्षित रहे इस कारन से पूजा होती है।

T1

और यह भी माना जाता है की यदि इस दिन नागो को स्नान कराकर उनकी पूजा की जाये तो हमे पुण्य की प्राप्ति होती है और इस नाग की पूजा करने से व्यक्ति के जीवन में साप के काटने का खतरा काम होता है।

T1

CNG Kit Price: जाने कैसे पूरा पैसे वसूल सीएनजी लगवाने से। check more in details by clicking the above link

T1